मुझे भी कुछ कहना है

विचारों की अभिव्यक्ति

46 Posts

1665 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1876 postid : 988

मेरा पहला-पहला प्यार (लेख)

Posted On: 6 Jul, 2010 Others,मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज मैं आप लोगों से अपने दिल का एक राज बांटना चाहती हूँ… बहुत दिन से सोच रही थी कि हाले-दिल बता ही डालूं, पर डर लगता था कि लोगों को पता चलेगा तो क्या कहेंगे… पर क्या करूँ अब ये राज छुपाया नहीं जा रहा है…. पिछले कुछ दिनों से मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा है…. जहाँ भी देखती हूँ बस वहीँ चेहरा दिखाई देता है…. भीड़ में, हर चेहरे पर, बस वहीँ एक चेहरा…… हर पल दिल चाहता है कि उसके पास रहूँ, उससे ढेर सारी बातें करूँ, कुछ उसकी सुनूँ…. उससे एक पल कि दूरी भी अब बरसों सी लगती है….. उससे मिले बिना ऐसा लगता है मानो मैं अधूरी हूँ… दिल में भी हमेशा एक अजीब सी हलचल होती रहती है….

मैंने कहीं ऐसा पढ़ा था कि शायद इसी को प्यार कहते हैं…. आप लोगों में से बहुतों को तो इसका अनुभव भी होगा, तो कृपया मुझे बताएं क्या यहीं प्यार है? दिल उसके बिन कहीं लगता नहीं, वक़्त गुजरता नहीं….. क्या यहीं प्यार है? (सुर में पढ़े, आजकल मेरा पसंदीदा गाना है)…..

अब जब मैंने राज बताने का निर्णय ले ही लिया है तो चलिए अब आपको उससे मिलवा भी देती हूँ….. कौन है वो जिसने मेरी रातों कि नींद और दिन का चैन चुरा लिया है… और मुझे बेचैन कर दिया है…

सफ़ेद शर्ट और नीले जींस में वो इतना सुन्दर लगता है मानो नीले-नीले आकाश से बारिश की बूंदें बरस रहीं हों… साथ ही सुनहरे-पीले रंग की कैप उसकी सुन्दरता में चार-चाँद लगा देते है….

जब भी हम मिलते हैं, यूँ लगता है मानो समय कहीं थम सा गया हो…… उसकी बाँहों में समय का पता ही नहीं चलता, कब गुजर जाता है… कभी वो गीत सुनाता है, कभी हमारी तारीफ में गजलें पढ़ता हैं… कभी-कभी सुन्दर कहानियां भी गढ़ता है…. कभी-कभी तो बातों-बातों में राजनीतिक, सामाजिक, सामयिक और आर्थिक विषयों पर हमारी वाद-विवाद भी हो जाती है…. और कभी-कभी विज्ञान की नई-नई खबरों से भी रूबरू करता है…… कुल मिलाकर जितना भी समय हम साथ बिताते हैं, बहुत ही प्यार भरा और रोचक होता है….

उसकी खूबियों की क्या बात करें, वो तो सभी चीज़ों में अव्वल है…. तभी तो हमारा प्यार है…. खेल में भी वो माहिर है…. हर एक खेल उसे पसंद है, पर आजकल उसके दिमाग में फूटबाल की खुमारी छाई है और अपने साथ हमें भी फूटबाल का दीवाना बना दिया है….

मुझे लगता है अब तक आप सब समझ ही गए होंगे कि हमारा नया-नया और पहला प्यार कौन है?… अरे अभी भी नहीं समझे….. अरे भाई ये जागरण मंच ही तो है हमारा पहला प्यार, जिसने हमें अपने प्यार के जादू में गिरफ्तार कर लिया है…. इसका अहसास हमें कुछ दिनों पहले ही हुआ…

पिछले दस दिनों से हम इस मंच यानि कि अपने पहले प्यार से दूर थे… इस दूरी ने ही हमें इस बात का अहसास कराया कि हमें किसी से प्यार हो गया है….. इन दस दिनों में हमने इस मंच को बहुत ही मिस किया… इन दिनों ही मुझे पता चला कि जागरण मंच मेरी जिंदगी का अटूट अंग बन चूका है… और इसके बिना एक पल भी जीना मुश्किल हो गया है…. हर पल दिमाग में यहीं बात आती थी कि पता नहीं मंच पर क्या नया हो रहा होगा….

हमारे कुछ ब्लोगर साथियों का हमें मेल भी मिला, जो हमारी अचानक इस तरह अनुपस्थिति से चिंतित थे…. पढ़कर अच्छा लगा कि कुछ लोगों को हमारी चिंता है…. आप सभी का धन्यवाद…. तो चलिए आप की चिंता दूर कर दे और बता दे कि इन दस दिनों में हम किस अज्ञातवास में थे….

हम किसी कांफ्रेंस के सिलसिले में बाहर गए थे…. चार दिन तो आने-जाने में ट्रेन में ही बीते…. वहां पहुँच कर कांफ्रेंस में सम्मिलित होने और अपने रिसर्च पेपर प्रस्तुत करने के बीच हमें समय ही नहीं मिला कि नेट पर आ सकें…. मन तो बहुत करता था, पर नई जगह और व्यस्तता के कारण ये मुमकिन नहीं हो पाया… कल ही शाम को वापस आये हैं…. और फिर से आ गए हैं अपने प्यार के आगोश में…

इन दस दिनों में यहाँ काफी कुछ बदल गया है… सबसे बड़ी चीज़ ब्लॉग स्टार का परिणाम घोषित हो चूका है (पूरा ना सही, पर शुरुआत तो हो ही चुकी है)… सबसे पहले सभी टॉप १० ब्लोगर को हमारी तरफ से बधाई और भविष्य की शुभकामनायें…. अरविन्द जी को विशेष बधाई, इतना अच्छा मुकाम पाने के लिए… और बाकी सभी साथियों को भी, जो इस सूची में सम्मिलित नहीं हो पायें, उज्जवल भविष्य की ढेरों शुभकामनाएं…. हौसला मत हारिये, आगे मंजिलें और भी हैं…. बस अपना सर्वोत्तम करने की कोशिश करिए….

सबसे महत्वपूर्ण बात, जिसके बिना ये लेख अधुरा रह जायेगा…. मेरे सभी शुभचिंतकों और पाठकों का तहे दिल से आभार, जिनके स्नेह और प्रोत्साहन ने मुझे आज इस ऊंचाई तक पहुँचाया… उनके इसी प्रोत्साहन ने हमेशा मुझे अच्छा लिखने के लिए प्रेरित किया… उम्मीद है भविष्य में भी आप सभी का प्यार इसी तरह मिलता रहेगा…

| NEXT



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.43 out of 5)
Loading ... Loading ...

60 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Janais के द्वारा
May 25, 2011

Cool! That’s a cveler way of looking at it!

Amitkrgupta के द्वारा
July 11, 2010

अदिति जी पहले आपको नमस्कार और बधाई टॉप 10 में शामिल होने के लिए. इस मंच के माध्यम से आपने पहली प्रेम कहानी व्या की .निश्चित अच्छी रचना . मैंने भी कुछ ब्लॉग लिखे हैं आप उसे पढ़कर अपने सुझाव और शिकायतों से मुझे अवगत करावे .आप मेरे ब्लॉग पढ़ने के लिए मुझे इस add पर follow कर सकते हैं. http://www.amitkrgupta.jagranjunction.com

    aditi kailash के द्वारा
    July 11, 2010

    आपके प्रोत्साहन और स्नेह के लिए आभार…. निश्चित ही समय मिलने पर आपका ब्लॉग अवश्य पढेंगे….

    Giggles के द्वारा
    May 25, 2011

    You have shed a ray of snsuinhe into the forum. Thanks!

rajkamal के द्वारा
July 11, 2010

aap to aa gai hai dhmaakedaar andaaz me … swagat aur badhai ..

    aditi kailash के द्वारा
    July 11, 2010

    आपके स्नेह और प्रोत्साहन के लिए आपका आभार….

allrounder के द्वारा
July 9, 2010

अरे Maidam आप लौट आईं क्या ?

    aditi kailash के द्वारा
    July 9, 2010

    जी हाँ सर जी, हम तो कब के आ चुके हैं…. अरे आपकी वो पंजाब मेल में ही तो थे, शायद आपने देखा नहीं होगा…

    allrounder के द्वारा
    July 12, 2010

    जनरल डब्बे मैं VIP सवारी हम उसे देख भी न सके हाय रे फूटी तक़दीर हमारी

    aditi kailash के द्वारा
    July 12, 2010

    हमने कहा हम उसी ट्रेन में थे… वैसे VIP तो आप भी हैं इस मंच पर…..

Deepak Jain के द्वारा
July 8, 2010

अदिति जी सर्वप्रथम तो आपको जागरण मंच के टॉप १० में शामिल होने पर हार्दिक बधाई और मै आशा करता हूँ की आप यूँ ही लिखती रहेंगी इतने दिनों से आपकी कोई रचना पढने को नहीं मिली तो हमे लगा की कहीं आपने ये मंच छोड़ तो नहीं दिया लेकिन मुझे आज आपकी ये रचना पढकर भरोसा हो गया की आप अपने प्यार को कभी नहीं छोड़ सकती और जिस बेहतरीन अंदाज में आपने अपना हाले – दिल बयाँ किया है वाकई में काबिले तारीफ है दीपक जैन

    aditi kailash के द्वारा
    July 8, 2010

    दीपक जी, आपके स्नेह और प्रोत्साहन के लिए आभार…. हम इस मंच को छोड़कर कहीं नहीं जाने वाले…. बस कुछ जरुरी काम से बाहर गए थे इसलिए कोई नई पोस्ट नहीं प्रस्तुत कर पाए…. आप लोग इसी तरह पढ़ते रहिये, हम भी इसी तरह लिखते रहेंगे… पुनः आभार…..

विनीत तोमर के द्वारा
July 7, 2010

आप अच्छा लिखती हें, लिखती रहें पढ़ना अच्छा लगता हे.आपकी पोस्ट सीधे हमारे मेल बॉक्स में केसे आये इसकी व्यवस्था करें.

    aditi kailash के द्वारा
    July 7, 2010

    विनीत जी, आपके स्नेह और प्रोत्साहन के लिए आभार… आप पाठकों का प्रोत्साहन ही हमें अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करता है…. अगर आप हमारी पोस्ट सीधे अपने मेल बॉक्स में पढना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉग में ऊपर की और दिए “follow my blog” लिंक को क्लीक करें…

sumityadav के द्वारा
July 7, 2010

Back with a Bang अदितीजी, अच्छा हुआ आपने अपने पहले प्यार का इकरार तो किया। हम भी तो इस नीली साड़ी  वाली और नारंगी बिंदी लगाने वाली जागरण मंच पे फिदा हैं लेकिन कभी कह नहीं पाए, क्या है न  मेरे जैसे कई आशिक हैं इसके। बहुत खाली सा लग रहा था जागरण जंक्शन आपके जाने से।  आपके आने पर बस यही कह सकते हैं- आप आए बहार आई। धन्यवाद।

    aditi kailash के द्वारा
    July 7, 2010

    सुमित जी, धन्यवाद…. आपको भी क्या अभी से साड़ी वाली पसंद आने लग गई…. अरे भाई अभी तो जींस-टॉप और सलवार सूट वाली की उम्र है… खैर ये तो एक मजाक था… चलिए सुन कर अच्छा लगा कि हमारे आने पर आपको ख़ुशी हुई… इसी तरह स्नेह बनायें रखे….

    Sewana के द्वारा
    May 25, 2011

    You’re the gertaest! JMHO

seema के द्वारा
July 7, 2010

आपको अपना पहला प्यार मुबारक |

    aditi kailash के द्वारा
    July 7, 2010

    धन्यवाद सीमा जी…

    Kailey के द्वारा
    May 25, 2011

    IMHO you’ve got the right awensr!

Nikhil के द्वारा
July 7, 2010

एक रोग से ग्रसित एक हम भी हैं.

    aditi kailash के द्वारा
    July 7, 2010

    इस रोग से आप ही नहीं, कई लोग ग्रसित हैं… ये तो स्वाइन फ्लू की तरह बढ़ता ही जा रहा है…

ASHISH RAJVANSHI के द्वारा
July 6, 2010

नमस्कार अदिति जी , इस मंच पर आज कल बहुत ही चर्चे थे आपकी गुमशुदगी के | आते ही जोरदार विस्फोट किया आपने और तड से आपका ब्लॉग फीचर्ड भी हो गया | जागरण से अपार प्रेम का त्वरित लाभ है | और शायद इनको आपसे उतना ही लगाव है | विचारों की रेलगाड़ी पर सवार होकर , शब्दों की पटरी पर चलकर जो शख्स जागरण “जंक्सन” तक पहुंचेगा मंजिल मिलने में उसे कोई कठिनाई नहीं होगी | प्रतिक्रिया शायद थोड़ी उलझी हुई है लेकिन आप जैसी समझदार महिला के लिए इतना पर्याप्त है | फिर भी मेरी शुभकामनाये आपके साथ हैं | धन्यवाद आपका आशीष राजवंशी

    aditi kailash के द्वारा
    July 7, 2010

    आशीष जी, आपकी शुभकामनायों के लिए आभार… जैसा कि आपने स्वयं ये माना कि ये एक उलझी हुई प्रतिक्रिया है, यानि कि आप स्वयं नहीं समझ पाए कि आप क्या लिखना चाहते हैं, तो हम कैसे समझ पाते… उम्मीद है भविष्य में आप जरुर अपने विचारों से अवगत कराएँगे… अगर बात जागरण मंच से प्यार की है तो हम खुल कर मानेंगे कि हाँ हमें जागरण मंच से अपार प्रेम है…. क्योंकि मुझ जैसे नए लेखक को इसी मंच पर ही पहचान मिली है, इसी मंच से हमने लिखना शुरू किया था…. और जागरण को हमसे लगाव की बात करें, ये तो वही अच्छी तरह बता सकते हैं…

    ASHISH RAJVANSHI के द्वारा
    July 9, 2010

    नमस्कार अदिति जी , मैं तो समझ ही गया था की क्या लिख रहा हूँ | छिपा हुआ अर्थ तो आप को विवेक का इस्तमाल कर समझना होगा | अवसर आया तो विस्तृत रूप से भी बता दूंगा | धन्यवाद

    aditi kailash के द्वारा
    July 9, 2010

    इंतजार रहेगा आपके विचारों को जानने और समझने का…. आपका पुनः आभार….

kmmishra के द्वारा
July 6, 2010

भगवान का लाख लाख शुक्र है कि आप लौट आयीं । और आयीं भी तो दो दिन हो गये हमको एक टिप्पणी भी नहीं दी । खैर इस सफेट शर्ट ओर नीलीं जींस वाले से बच कर रहियेगा । आज कल बहुत लोग इसके फेरे में पड़े हुये हैं । दस लोगों को तो मैं ही जानता हूं जो इसके प्यार में पगला गये हैं । और ये भी साहब स्वयंवर स्वयंवर वाला खेल खेल रहे हैं । देखिये वरमाला किसके गले में पड़ती है ।

    kmmishra के द्वारा
    July 6, 2010

    हम तो दूर खड़े नजारा ले रहे हैं पर आपने तो आते ही इस नीली जींस वाले पर अपना हक जमा दिया । क्या फस्ट कम फस्ट आउट वाला फलसफा एप्लाई करेगा ।

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    मोहन जी, दो दिन नहीं, डेढ़ दिन ही हुए हैं और अभी तक सफ़र की थकान भी नहीं निकली है…. अभी बस यहीं सोच कर नेट पर आये कि कम से कम फीचर पोस्ट तो पढ़ ही डाले और एक दो कमेन्ट दे भी दे…. समय की कमी के कारण सभी को पढना तो संभव नहीं है… बहुत सही लिखा आपने…. ये स्वयंबर तो राखी सावंत और राहुल महाजन के स्वयंबर से भी लम्बा हो गया…. देखे किसके गले जयमाल पड़ती है… वैसे आप भी एक सशक्त दावेदार दिखाई दे रहे हैं… आपको हमारी शुभकामनायें…

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    हमने हक कहाँ जमाया है, बस प्यार का इज़हार किया है…. दिल का हाल सुनाया है… देखे क्या जवाब आता है…. आप भी दूर कहाँ खड़े हैं, हमें तो लग रहा है जल्दी ही आपका नंबर आने वाला है….

R K KHURANA के द्वारा
July 6, 2010

प्रिय अदिति तुम्हारी इस मंच पर उपस्तिथि अच्छी लगी ! सदा खुश रहो ! राम कृष्ण खुराना

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    चाचाजी, इस मंच को छोड़कर हम कहीं नहीं जाने वाले…. वो भी बिना बताये तो कभी भी नहीं… हाँ इस बार पॉवर नहीं होने के कारण जाने के पहले बता नहीं पाए… आपके आशीर्वाद के लिए धन्यवाद…..

Chaatak के द्वारा
July 6, 2010

welcome back!!!!!

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    Chatak ji, Thanks a lot!!!!!

raziamirza के द्वारा
July 6, 2010

बडी ग़ायब रही आप!!! देर आये हो पर दुरस्त आये हो। आपकी हर अयी पोस्ट का इंतेज़ार रहता है।

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    रज़िया जी, हमने भी आप सभी को मिस किया…. क्या करें काम ही कुछ ऐसा था कि ऑनलाइन नहीं आ पाए…. हम भी आपकी कवितायेँ जरुर पढ़ते हैं…. समय की कमी के कारण अब सभी पुरानी पोस्ट पढ़ना संभव नहीं है, इसलिए आने वाली पोस्ट जरुर पढेंगे… आपका आभार…..

    Eliza के द्वारा
    May 25, 2011

    Sunods great to me BWTHDIK

Jack के द्वारा
July 6, 2010

अदिति जी आप आ गई वरना ऑलराउडर जी शहर के सभी सदको पर लापता का पोस्टर लगा देते कि अदिति कैलाश गुम हो चुकी है …भगवान का शुक्र है जोआप आ गई अब जा कर कहीं सचिन जी चैन से खाना खा सकेंगे.

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    जैक जी, सचिन जी लापता का पोस्टर तो लगा देते, पर किस शहर की सड़कों पर… वैसे हम गुम नहीं हुए थे, बस जरुरी काम से कुछ दिनों के लिए बाहर गए थे…. अब आ गए हैं, तो चिंता छोड़ दीजिये…

parveensharma के द्वारा
July 6, 2010

अरे वह अदिति जी. आप आ गई… सब लोग बड़ा चिंतित थे. welcome back बधाई हो पहले दो में स्थान बनाने के लिए. मैंने अपने ब्लॉग “बधाई हो बधाई ” में मैंने लिखा था की ब्लॉग स्टार कोई महिला होगी…शायद मेरी भविष्यवाणी सच होने का वक्त आ गया….बहार हाल फिर अच्छा लेख लिखने के लिए बधाई.

    aditi kailash के द्वारा
    July 6, 2010

    प्रवीण जी, बधाइयों के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद….. हम आ गए हैं अब तो आप सब चिंता छोड़ दे….. हमने भी सभी को बहुत मिस किया इन दिनों… हम पहले दस में जगह बनाने में सफल रहे, ये आप लोगों के साथ और प्रोत्साहन का ही नतीजा है…. भविष्यवाणी के बारे में क्या कहें, बस आपने तो बहुत बड़ी बात कह दी…. आपका पुनः आभार… इसी तरह स्नेह बनाये रखिये…..


topic of the week



latest from jagran