मुझे भी कुछ कहना है

विचारों की अभिव्यक्ति

46 Posts

1665 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1876 postid : 385

क्या आप एक अच्छा ब्लॉग लिखना चाहते हैं? (लेख)

  • SocialTwist Tell-a-Friend

blog2काफी दिनों से मैं इस मंच पर देख रही हूँ कि कई लोग बहुत अच्छा लेख लिख रहे हैं…….. पर उन्हें उनकी क्षमता के अनुसार पाठक नहीं मिल पा रहे हैं या सीधे शब्दों में कहूँ तो लोग उनके लेखों को पढ़ नहीं रहे हैं……..क्या कारण हो सकता है कि आपका लेख अच्छा होने के बावजूद भी नहीं पढ़ा जा रहा है?……..क्या आपने कभी सोचा हैं इस बारे में?….. नहीं ना….. पर मैं आज इस जंक्शन पर लोगों का लेख पढ़ रही थी तब मेरा ध्यान इस ओर गया…… और मन में विचार आया कि क्यों ना इस बारे में कुछ लिखा जाएँ…. वैसे मैं ब्लॉग कि दुनिया में बहुत पुरानी नहीं हूँ, पर फिर भी अगर मेरे इस लेख से किसी को मदद मिलती है तो ख़ुशी होगी………..

ब्लॉग क्या है?
सरल शब्दों में कहे तो ब्लॉग नेट पर एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा हम अपने आस-पास होने वाली घटनाओं और अपने मन के विचारों को अपने शब्दों में व्यक्त करते है……ये पूरी तरह से आपके अपने विचार होते हैं……..

ब्लॉग लिखते समय ध्यान देने योग्य बातें
जब आप अपना ब्लॉग लिख रहे हैं तो ये बात हमेशा ध्यान में रखे कि इसके पाठक कौन हैं और वो किस भाषा में पढना चाहते हैं…..जैसे कि इस मंच पर ज्यादातर पाठक हिंदी के ब्लॉग ही पढना चाहते हैं, तो अच्छा हो कि आप अपना ब्लॉग हिंदी में लिखे जिससे ज्यादातर पाठक इसे रूचि से पढ़े……

blog5भाषा का चुनाव होने के बाद आती है बात
शीर्षक की…….. “first impression is the best impression” इसलिए शीर्षक का चुनाव बड़े ही ध्यान से करना चाहिए……. लेख का शीर्षक एक तरह से आपके लेख की तस्वीर है, जिसे पढ़कर ही पाठक को अंदाज़ा लग जाता है कि ये लेख किस बारे में है…….. एक अच्छा शीर्षक ही लेख में पाठक कि रूचि बढाता है और उसे लेख पढ़ने के लिए प्रेरित करता है……… अगर आपके लेख का शीर्षक बहुत ही अच्छा और आपके लेख से अच्छी तरह सम्बंधित है तो समझिये आपने आधी जंग जीत ली……


blog4शीर्षक के बाद बारी आती मुख्य लेख की…….हमेशा कोशिश करें की आपके विचार सरल और स्पष्ट भाषा में लिखे गए हो, जिसे पढ़कर पाठक को उसमें रूचि आये…… ज्यादा कठिन भाषा के प्रयोग से बचे…… एक अच्छा ब्लॉगर वह होता है जो अपने पाठको से वार्तालाप स्थापित करता है……….पाठक को ऐसा महसूस होता है कि आप उनसे ही बात कर रहे हैं, और उसकी रूचि बढ़ती है………. सबसे अच्छा तरीका है आप जिस तरह अपने लोगों से बात करते हैं, उसी भाषा शैली का प्रयोग करें…….

इसके अलावा क्या करें

  1. अपनी पहचान के लिए अपने ब्लॉग को एक अच्छा सा नाम दे.
  2. अपनी फोटो अपलोड करें, जिससे लोग आपके ब्लॉग को देखकर ही पहचान ले.
  3. अगर आपका ब्लॉग किसी विशेष विषय पर केन्द्रित हैं तो tag line में स्पष्ट रूप से लिखे की ये ब्लॉग किस बारे में है.
  4. लेख से सम्बंधित तस्वीर ब्लॉग में जोड़े, लेख ज्यादा रुचिकर लगेगा.
  5. नियमित रूप से ब्लॉग अपडेट करें.
  6. अपने ब्लॉग में अन्य लोगों द्वारा दिए गए कमेन्ट का जवाब दें.


क्या ना करें

  1. बहुत बड़े-बड़े पैराग्राफ में ना लिखे .
  2. बहुत बड़े-बड़े ब्लॉग लिखने की बजाय कोशिश करे कि छोटा और अच्छा लिखे…… बहुत बड़े लेख अच्छे होने के बावजूद पाठकों में रूचि पैदा नहीं कर पाते हैं.
  3. असभ्य भाषा का प्रयोग ना करें
  4. अशोभनीय चीज़े अपने ब्लॉग में ना लगायें.


blog3ध्यान रखे
सभी का सोचने का अलग-अलग तरीका होता है…….जरुरी नहीं है कि सभी लोग हमेशा आपके विचारों से सहमत हों…..इसलिए अच्छी प्रतिक्रियाओं के साथ-साथ आलोचनाओं को भी स्वीकार करें और उससे कुछ नया सीखे……

हिंदी को हिंदी में ही लिखे, अंग्रेजी में नहीं……..आप सोच रहे होंगे ये मैं क्या लिख रहीं हूँ……..असल में कई लोग अपने हिंदी के विचारों को अंग्रेजी के fonts में लिखते हैं….आपकी रचना कितनी भी अच्छी हो, अगर आप इस तरह लिख रहे हैं तो बहुत ही कम लोग इसे पढेंगे…….अगर आप को हिंदी में कैसे लिखना है नहीं पता है, तो पूछिये ना……..बहुत ही आसान सा है……आप न्यू पोस्ट विकल्प में जाकर HTML पर क्लिक करें, बस आप जो भी टाइप करेंगे, वो हिंदी में दिखाई देगा…. ध्यान रखे नीचे हिंदी में टाइप करें का आप्शन क्लिक किया हो……..किसी को कमेन्ट करते समय hinglish वाला विकल्प चुने……..वहां भी आप जो टाइप करेंगे हिंदी में अनुवाद हो जायेगा…….

उम्मीद करती हूँ कि ये लेख नए ब्लोगर्स के लिए उपयोगी साबित होगा……तो फिर देर किस बात की है, उठाइए अपनी उंगलियाँ और चालू हो जाइये की-बोर्ड पर अपना ब्लॉग लिखने……… और इस मंच पर छा जाने………

अगर आप और कुछ जानना चाहते हैं तो आपकी प्रतिक्रियाएं सादर आमंत्रित हैं………

| NEXT



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (17 votes, average: 4.24 out of 5)
Loading ... Loading ...

65 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sumit kumar के द्वारा
November 27, 2013

किसी भी विषय में कोई संज्ञान (जानकारी) आवश्यक हो तो अपनी मातृभाषा में  मुझसे पूछें:   कुमार,  लेखक, अनूदक, मार्गदर्शक  ०९४२५६०५४३२

Janai के द्वारा
May 25, 2011

No more s***. All posts of this qualtiy from now on

आनन्द जोशी के द्वारा
January 26, 2011

जानकारी के लिए धन्यवाद ।

deepaksrivastava के द्वारा
July 23, 2010

मैं भी सोचता था अदिति जी की क्यों मेरे पोस्ट्स को ज्यादा लोग क्यों नहीं पढ़ते जबकि मेरे दो लेख फीचर्ड भी हो चुके हैं. धन्यवाद अदिति जी.

राजीव तनेजा के द्वारा
July 14, 2010

जानकारी भरा बढ़िया आलेख

ganesh के द्वारा
June 20, 2010

क्या बहुत दिन तक ब्लॉग अपडेट नहीं करने से बंद हो जाता है

    aditi kailash के द्वारा
    June 20, 2010

    गणेश जी, हम माफ़ी चाहेंगे, इस बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है……हम भी इस मंच पर अभी नए हैं……पर जहाँ तक हमें लगता है ऐसा होना तो नहीं चाहिए…..हो सकता है आप अपना पासवर्ड भूल गए हो…..अगर आपको इससे सम्बंधित कोई समस्या है तो आप फीडबैक में लिख कर अपनी समस्या बता सकते हैं….वहां से आपको कोई मदद मिल जाएँ….

kishu के द्वारा
June 16, 2010

aditiji apki madda se muze bahot sahayata mili hai apse ak or gujarish hai ki ap mari ak or maddad kar de jab ham koi blog likhte hai to hame use dekhne k leye mera blog mai jakar open kar k dekhna padta hai jab ki apka or baki logo ka blog jagran juction open karte hi turant dikhai dete hai ya to vah blog puri tarah dikhega ya fir side mai uski8 heading dikhai dagi par ye mere blog k sath nahi ho pa raha hai iska karan kya hai plz bataiye thank u have a nice day

    aditi kailash के द्वारा
    June 16, 2010

    किशु जी, हम आपके किसी काम आ सके सुनकर अच्छा लगा…कभी समय मिलेगा तो आपका ब्लॉग जरुर पढेंगे……लिखते रहिये…. अगली बार जब भी जवाब दे हिंगलिश का विकल्प चुने, हिंदी में टाइप होगा… जागरण जंक्शन के मुख्य पेज पर वही ब्लॉग दिखाई देते हैं, जिन्हें जंक्शन टीम के द्वारा फीचर किया जाता है….बाकि के ब्लॉग देखने के लिए हमें रीडर ब्लॉग पर क्लिक करना पड़ता है…… आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार….. और भी कुछ शंका हो तो जरुर पूछे….

RASHID - Proud to be an INDIAN के द्वारा
June 15, 2010

अदिति जी.. सही लिखा है.. मेरे ब्लॉग को भी पता नहीं क्यों ज्यादा reader नहीं मिल पाते है… आप के सुझाव पर अमल करता हू http://rashid.jagranjunction.com

    aditi kailash के द्वारा
    June 15, 2010

    रशीद जी, आपको हमारे लेख से कुछ मदद मिली अच्छा लगा…. आपका आभार…..

kishu के द्वारा
June 15, 2010

thank u mam

    aditi kailash के द्वारा
    June 15, 2010

    u r welcome kishu ji…….

शिवेंद्र मोहन सिंह के द्वारा
June 12, 2010

बहुत उपयोगी लेख …..

    aditi kailash के द्वारा
    June 12, 2010

    शिवेंद्र जी, आपका आभार…. बस ये हमारी एक छोटी सी कोशिश है…..

rajkamal के द्वारा
June 7, 2010

इतना अच्छा लेख है की अच्छा शब्द भी छोटा पड़ जाये- मेने भी हिंदी में लिखना आप ही से सिखा है- मेरा भी एक सुझाव है:- जब भी कोई आप के बताए हुए अनुसार ब्लॉग टाइप कर ले तो उस को अपनी फेव रिट की लिस्ट में रख ले तो अगली बार लिखना आसान हो जायेगा-

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    राजकमल जी, धन्यवाद् आपका……….आपने भी अच्छा सुझाव दिया है…….और भी कुछ अच्छी जानकारी हो तो जरुर बांटिएगा, क्योंकि ज्ञान तो बांटने से ही बढ़ता है………..

    kishu के द्वारा
    June 10, 2010

    mam thank u so much apke lekh k karan hame bahot sahayata hui hai. mam ak request or thi plz apki or ak maddad chahiya isme hame konsa font use karna hai vo batiye plz kya apka contact no mil sakta hai plz kishu kishorijoshi83@yahoo.co.in

    aditi kailash के द्वारा
    June 10, 2010

    किशोरी जी, आपका आभार……. आप होमपेज पर ऊपर “मेरा ब्लॉग” आप्शन पर जा कर डेशबोर्ड पर जाएँ…पोस्ट लिखने के लिए डेशबोर्ड पर दांयी और न्यू पोस्ट का link है………उसे क्लिक करें फिर HTML (visual पर नहीं) पर क्लिक कर टाइप करें………देख लें की नीचे दिया हिंदी का आप्शन क्लिक हो…अब लिखना चालू करें……………हिंदी में टाइप होगा……… किसी को प्रतिक्रिया देने की लिए भी post ur कमेन्ट, जो की पोस्ट जहाँ ख़तम होती है वहीँ नीचे है, पर क्लिक कर आप हिंदी की जगह hinglish आप्शन चुने और टाइप करें, हिंदी में दिखाई देगा………और कुछ सवाल हों तो तो आपका स्वागत है…….

Nikhil Singh के द्वारा
June 7, 2010

अदिती जी नमस्कार, खैर अपने तो मुझे अंग्रेज धां बना दिया है.. वैसे में कोई u.s.a. return नही हू.. में pehle भी अपनी मातर-भाषा में सोचता था.. अब भी हिंदी में ही सोचता हू.. लेकिन में क्या करू.. ये transliteration software है , जिसकी वजेह से मैंने रोमन हिंदी प्रयोग की थी.. खैर मुझे इस बात से निराशा होती है की आपेशिक पाठक गर्न मेरे लेख को नहीं समझ पाते हैं… और लिखने का कोई फायेदा भी नही है.. फिर में कोई नियमित लेखक भी नही हू.. में तो बस कोडिंग करना जानता हू… और समझता हू जो भी मेरे लेख को पड़ेगा.. इतनी अंग्रेजी तो समझता ही होगा.. क्युकी आजकल sms का जमाना है.. और अधिकतर सभी व्यक्ति sms रोमन हिंदी में ही padte likhte हैं तो फिर यहाँ क्या परेशानी हो सकती है… खैर मैं आपको एक और title देना चाहता हू.. वो ये है कि आप बन चुकी हैं जागरण जुन्क्तिओन.कॉम की technical assistance provider… :D आशा है आपको इस सम्मान से बहुत ख़ुशी होगी.. धन्यवाद्, निखिल सिंह…

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    निखिल सिंह जी, आपकी प्रतिक्रिया पढ़कर थोडा दुःख हुआ और ज्यादा ख़ुशी………दुःख इसलिए की शायद आपने हमारे प्रोत्साहन को गलत समझ लिया……..हम आपको usa return नहीं कह रहे थे, बल्कि सही में आपकी तारीफ कर रहे थे कि आप अंग्रेजी में बहुत अच्छा लिखते है…….मैंने आपकी कुछ पोस्ट पढ़ी है……आप शायद अंग्रेजी माध्यम से पढ़े होंगे, इसलिए थोड़ी समस्या तो आती है…….कभी-कभी मुझे भी कुछ शब्दों का हिंदी में क्या लिखू समझ में नहीं आता है………don’t take it otherwise…..just write ur feelings in that language in which u feel comfortable…………but really u have very good command on english, so think how to use it for others……. ख़ुशी इस लिए हुई कि आज मुझे दो-दो टाइटल मिल गए….टीचर दीदी और अब technical assistance provider …………..अच्छा लगता है ये सोच के कि आप किसी की मदद कर रहे हो………वैसे अब technical assistance provider बनवाया है तो जागरण वालों से कहें हमारा भी कुछ सोचे और हमें इस काम का कुछ मेहताना भी दे…..

    nikhilbs09 के द्वारा
    June 8, 2010

    hello aditi jee, actually I was just pranking about what you said for my english language knowledge. albeit i m in learning state and learning by practice; either by writing or speaking, more stress is on to become fluent with this second language be it any case of life (for my career purposes). One more thing that i guess, you also have good command over this language. However, thanks for your encouragement for my expressions but all i love my mother tongue too much and my country as well. Thanks so much. Nikhil Singh http://jarjspjava.jagranjunction.com

    aditi kailash के द्वारा
    June 8, 2010

    well said nikhil singh ji, learning never stops……its a lifetime process and we learn something everyday, if pay attention…. i quite agree with u about english language …. English is, no doubt, a very important language, as it is an international means of communication and in this computer age, its highly essential for all to know this language………however, we have to encourage our national tongue as well……. and we all love our country and our national tongue, thats why we r all encouraging it here…….. i m not a master in it ……but also in the learning stage and trying to become fluent in it………. Thanks for ur encouragement……..

sumityadav के द्वारा
June 7, 2010

अदितीजी, बहुत अच्छा लेख। आपका यह लेख कई मेरे जैसे कई नए ब्लॉग लेखकों को मार्गदर्शित करेगा और प्रोत्साहित करेगा। धन्यवाद।

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    सुमित जी, धन्यवाद………वैसे एक बात बताये, इस लेख के पीछे आपका भी बहुत बड़ा हाथ है………हुआ यूँ कि कल जब हमने आपका व्यंग्य “एक आदमी मच्छर को…….”पढ़ा और अच्छा लगने पर आपको कुछ सुझाव भी दिया, तभी लगा कि इस पर कुछ लिखा जाये और परिणाम सबके सामने है…….. आपका आभार……लिखते रहिये……..

namrata के द्वारा
June 7, 2010

hello aditi ji , main hindi mai apna blog kaise likh sakti hoon ?aur kya mera blog private ho sakta hai matlab ager main na chahoon ki use koi aur padhe

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    नम्रता जी, हिंदी में ब्लॉग कैसे लिखे इसके लिए मैंने इसी पोस्ट की प्रतिक्रियायों में काफी कुछ बताया है, आप पढ़े, आपको मदद मिलेगी……. रही बात आपके व्यतिगत ब्लॉग कि तो उसका उपाय भी है, पर मैं ये जरुर पूछना चाहूंगी कि आप अपने विचार लोगों के सामने क्यूँ नहीं लाना चाहती? खैर ये आपका व्यक्तिगत मामला है……इसी ब्लॉग पर जब आप न्यू पोस्ट पर क्लिक करती है तो वहां दायें तरफ visibility का विकल्प है हर बार उसे आप public से private कर दे, आपकी पोस्ट सिर्फ आप ही देख पाएंगी…….अगर फिर भी कोई परेशानी हो तो आपका स्वागत है………

namrata के द्वारा
June 7, 2010

hello aditi ji , main hindi mai apna blog kaise likh sakti hoon ?aur kya mera blog private ho sakta hai matlab ager main na chahoon ki mere siva use koi padhe

    aditi kailash के द्वारा
    June 8, 2010

    नम्रता जी, आप अपना ब्लॉग प्राइवेट क्यों रखना चाहती हैं?

mandeep chauhan के द्वारा
June 7, 2010

धन्यवाद् अदिति जी, में अकाउंट बना चूका हु , पासवर्ड भी मिल गया है. ……… अब बताये …….केसे अपना फोटो लगाये . और पोस्ट केसे करे………… वेसे ही जेसे आप लिखते हो ….. अच्छा अच्छा ….सोना सोना ….

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    मंदीप जी, आप होमपेज पर ऊपर “मेरा ब्लॉग” आप्शन पर जा कर डेशबोर्ड पर जाएँ………वहां बायीं ओर बहुत सारे ऑप्शन हैं, “मेरा अवतार ” में जाकर फोटो अपलोड कर सकते हैं…….बाकि ऑप्शन भी क्लिक करके देखे क्या हैं………. पोस्ट करने डेशबोर्ड पर दांयी और न्यू पोस्ट का link है………उसे क्लिक करें फिर HTML (visual पर नहीं) पर क्लिक कर टाइप करें………देख लें की नीचे दिया हिंदी का आप्शन क्लिक हो…अब लिखना चालू करें……………हिंदी में टाइप होगा………पूरा लिखने के बाद पोस्ट का आप्शन क्लिक कर छाप दें………

    Queenie के द्वारा
    May 25, 2011

    And I thought I was the ssenible one. Thanks for setting me straight.

rachna varma के द्वारा
June 7, 2010

बहुत बढियॉ जानकारी दी आपने 

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    रचना जी, आपका आभार……..

Anshul के द्वारा
June 7, 2010

एक अच्छे लेख के लिए बधाई. लेकिन एक नारी के नाम से क्यों लिखते हैं. यह लिखने का कारण हैं आपके लेख का ये पैरा :- हिंदी को हिंदी में ही लिखे, अंग्रेजी में नहीं……..आप सोच रहे होंगे ये मैं क्या लिख रहूँ हूँ … क्योंकि कोई नारी ये गलती नहीं कर सकती या फिर इसे कहीं से कोपी तो नहीं किया है और सुधारना भूल गए.

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    अंशुल जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद…… शायद आपको कोई गलतफहमी हो गई है………मेरा नाम अदिति कैलाश है और मेरे ख्याल से अदिति एक नारी का ही नाम होता है……..आपकी जगह में होता है या नहीं मुझे नहीं पता, पर हमारी जगह तो अदिति एक नारी का ही नाम होता है………

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    अंशुल जी, छोटी सी गलती पर ध्यान दिलाने धन्यवाद…….वैसे वो एक अनुवाद की गलती थी……..हम यहाँ अंग्रेजी में टाइप करते हैं और उसका अनुवाद होता रहता है………कई बार अगर आपने गलती से i की जगह u टाइप कर दिया तो इस तरह हो जाता है……..वैसे वो “रहा” भी नहीं था बल्कि “रहूँ” था….

kmmishra के द्वारा
June 7, 2010

अदितिजी आपने तो गागर में सागर भर दिया । नये ब्लागरों कों इससे कम शब्दों में इससे अच्छा नहीं समझाया जा सकता है ।

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    मिश्रा जी, आपका धन्यवाद…..बस एक छोटी सी कोशिश है ये……….

    Donte के द्वारा
    May 25, 2011

    Haha. I woke up down today. You’ve cehreed me up!

mandeep chauhan के द्वारा
June 7, 2010

नमस्कार अदिति जी, मेने आपका लेख पढ़ा , सच में कहना पड़ेगा के हम अपनी भावनाओ को सिर्फ जुबा से ही नहीं … अपने लेखो से भी परगट कर सकते है, ………आप बहोत अच्छा लिखते हो… आपके लेखो में मनो जीवत अनछ हो ….. बिलकुल भी पता नहीं चलता के हम इसे पढ़ रहे है …. मनो के हम किसी की बातो को सुन्न रहे हो …. . आपसे एक छोटी सी मदद चाहिए… दरसल मुझे पोस्ट कमेन्ट पर तो लिखना आता है , पर अगर मुझे अपना कोई ब्लॉग लिखा हो तो क्या करू ……….. उसपे फोटो भी हो. किरपा इसका जवाब जर्रूर दीजिये ,…. आप ही ने तो कहा था न … के अछे ब्लॉगर अपने पाठको का जवाब देते है…… तो में आपके जवाब का इंतजार करूँगा . धनियवाद

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    मंदीप जी, आपके प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद….. अपना ब्लॉग लिखने के लिए आपको सबसे पहले इस मंच पर अपना अकाउंट बनाना पड़ेगा……उसके लिए सबसे ऊपर लोगिन का विकल्प दिया है………..रजिस्ट्रेशन के बाद आपके मेल अकाउंट में जागरण जंक्शन की तरफ से मेल आएगा, जिसमें लिंक दी होगी……..उस पर क्लिक करके आप अपना अकाउंट शुरू कर सकते हैं……..फिर “मेरा ब्लॉग” विकल्प पर जाकर ब्लॉग लिखना शुरू कर सकते हैं………तो फिर आप भी शुरू हो जाइये….. और कोई समस्या हो तो पूछियेगा, जवाब जरुर मिलेगा……..

R K Khurana के द्वारा
June 7, 2010

प्रिय अदिति जी, बहुत सुंदर लेख है ! आपने यह लेख लिख कर कई लोगो की मदद की है ! आपने एक अध्यापिका की तरह समझा कर लिखा है यदि इस पर अमल करके लेखक चलें तो वे अच्छा लेख देने में कामयाब हो सकते है ! आप बुरा तो नहीं मानेंगी ? मुझे ऐसा विश्वाश है आप बुरा नहीं मानेंगी ! मेरा जहाँ तक ख्याल है आप मेरी बेटी के समान है ! परन्तु मैं आपको “टीचर दीदी” कहना चाहता हूँ ! खैर लेख के लिए साधुवाद राम कृष्ण खुराना

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    खुराना चाचाजी, शायद मैं आपको चाचाजी कह सकती हूँ, आपने मुझे ये अधिकार तो अभी अभी दे दिया है…….मुझे आपकी प्रतिक्रिया पाकर बहुत ही ज्यादा ख़ुशी हुई और उससे भी ज्यादा ख़ुशी इस बात की हुई कि आपने मुझे बेटी के समान माना…….मैं बुरा क्यों मानूंगी, आपने जब पहली बार मुझे किसी पोस्ट पर प्रतिक्रिया दी थी तभी मेरा मन आपको चाचाजी लिखने का था, क्योंकि आप मेरे चाचा की उम्र के हैं और मुझे ये अच्छा नहीं लगा था की आपको आपके नाम से संबोधित करूँ……….पर लगा शायद आपको बुरा ना लग जाये…..

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    रही बात “टीचर दीदी” कहने का, तो मुझे बहुत अच्छा लगा……बल्कि जब आप अदिति जी लिखते है तो अच्छा नहीं लगता…….वैसे आपको कैसे पता चला मैं इसी प्रोफेशन में जाना चाहती हूँ…..मैंने कई लोगों के ब्लॉग पढ़े और लगा कि अगर उन्हें कुछ और बात बताई जाये तो वो अच्छा लिख सकते हैं….बस इसी की एक छोटी सी कोशिश है ये……. आपके इतने सारे प्यार के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद……

nikhilbs09 के द्वारा
June 7, 2010

namaskar adeetee jee, आपके ब्लॉग कैसे लिखे इस विषय पर विचार तो बहुत ही सुन्दर हैं… लेकिन क्या अपने सोचा है की इस मंच पर कितने उपभोक्ता ऐसे हैं जो वही लिख रहे हैं जो पाठक गर्ण की रूचि क अनुसार है, या फिर उनकी पसंद नापसंद को सोच कर ब्लॉग रचना करते हैं… या कितने लोग हिंदी में छापना सुविधा जनक समझते हैं…. या फिर हिंदी के पाठक गर्ण से आगे के उपयोगकर्ताओं यानि कि वैश्विक स्तर पर अपने विचारों को पहुचाना चाहते हैं….. इत्यादी बातें हैं जो हर कोई ध्यान नहीं रख पता है… जैसे की अपने स्वयम लिखा है कि “ब्लॉग एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा हम अपने आस-पास होने वाली घटनाओं और अपने मन के विचारों को अपने शब्दों में व्यक्त करते है……ये पूरी तरह से आपके अपने विचार होते हैं……..” और लेखक उन्हें उसी प्रकार व्यक्त करता है जैसा की वो स्वयं व्यक्त करना चाहता है… अब ये पाठको कि रूचि पर निर्भर करता है.. कि वो क्या पसंद करते है, क्या नहीं, या फिर उन्हें sarsari निगाह डाल कर ही padna chahte हैं.. या फिर उनके पास कितना samay है ब्लॉग संसार में भ्रमर करने के लिए… खैर कुछ भी कहे …लेकिन…आप एक उत्तम लेखक हैं.. और हमारे पास एक उत्तम अवसर है आपसे लिखने कि कला सीखने का… :) आपका बहुत बहुत धन्यवाद साभार , निखिल सिंह, http://jarjspjava.jagranjunction.com

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    निखिल सिंह जी, आपकी प्रतिक्रिया पढ़कर अच्छा लगा………मैं समझ सकती हूँ आपकी परेशानी, एक व्यक्ति जो अंग्रेजी में ही सोचता हो उसके लिए हिंदी में लिखना बहुत मुश्किल होता है……मैंने हिंदी में ब्लॉग लिखने के लिए इस लिए जोर दिया क्योंकि हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमें इसका सम्मान तो करना ही चाहिए…..और सबसे बड़ी बात यहाँ ज्यादातर पाठक हिंदी हैं……..खैर अगर आप अंग्रेजी में अपने आप को सुविधाजनक समझते हैं तो आप अंग्रेजी में ही लिखिए………भाषा का कोई फर्क नहीं पड़ता, पर आप बाकि बातों का ध्यान रखे…….for example title, spacing, paragraph, way of writing etc……. असल में कई लोग अपने हिंदी के विचारों को अंग्रेजी के fonts में लिखते हैं….आपकी रचना कितनी भी अच्छी हो, अगर आप इस तरह लिख रहे हैं तो बहुत ही कम लोग इसे पढेंगे…..ये बात खासतौर पर उन्ही के लिए लिखी गई है…….. आपने मुझे अच्छा लेखक कहा, ये आपका बडडपन है, वरना हमने अभी १७ दिन पहले ही अपना पहला ब्लॉग लिखा है, आप मेरा प्रोफाइल देख सकते हैं…….. वैसे आप भी बहुत अच्छा लिखते है…..अंग्रेजी में आपकी अच्छी महारत है, तो आप अंग्रेजी में ही लिखिए…….पर बाकि बातों का ध्यान रखे…….. प्रतिक्रिया के लिए पुनः आभार……

rajkamal के द्वारा
June 7, 2010

अदिति बहिन निखिल जी बिलकुल ठीक कह रहे है-

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    हा हा हा हा……राजकमल जी, आपका आभार……..

chaatak के द्वारा
June 7, 2010

Aditi ji, You have nicely described ‘How to write a good blog’. I think all the new and some of the older bloggers will be benefited by it. Thanks for sharing these tips for all.

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    Chatak ji, Thanks for ur response…….. actually, since few days i felt that some people were facing problems regarding writing blogs…… so i tried my best to help them……..

Nikhil के द्वारा
June 7, 2010

आपके इस लेख से किसी और का भला हो न हो अदिति जी, मेरे जैसे नवसिखुए को ज़रूर समझ आ गयी. नए लेखकों का मार्गदर्शन करने के लिए धन्यवाद.

    aditi kailash के द्वारा
    June 7, 2010

    निखिल जी, ये आपका बड़प्पन है………..आप नौसिखिये कहाँ हैं…….आपका आभार……..


topic of the week



latest from jagran